Computer क्या है? What Is Computer In Hindi

आज के दौर में Computer हमारी Life का एक Important हिस्सा बन गया है ऐसे में हर व्यक्ति को Computer का बेसिक ज्ञान तो होना ही चाहिए लेकिन India में अभी भी काफी मात्रा में ऐसी जनसँख्या है जिनको Computer क्या है ( What is Computer In Hindi ) ये भी नही पता है ! ऐसे में हमारा फर्ज़ बनता है की हम हर उस व्यक्ति तक जिसको Computer का C भी नही आता है उसको Computer की Basic से लेकर Advance knowledge को बहुत ही आसान भाषा में समझाए जिनसे हमारे देश का हर व्यक्ति इस Digital दुनिया से जुड़ सके.

और इसीलिए आज हम What is computer की एक नई सीरिज शुरू कर रहे है जिसमे हम आपको computer के बारे में हर वो चीजे सिखायेंगे बिल्कुल Free में जो  एक computer academy आपको पैसे लेकर सिखाती है .तो सबसे पहले शुरू करते है आज की इस पोस्ट को जिससे हम जानेंगे Computer information in Hindi और इसके फायदे और नुकसान क्या है?

Computer Kya Hai In Hindi (What Is Computer in Hindi ?) –

अब अगर आपको ये नही पता है कि computer kya hai? और इसकी परिभाषा क्या है तो चलिए मैं आपको बता देता हूँ  –

Computer in hindi – वैसे अगर मैं सीधे और आसान शब्दों में बोलू  तो Computer एक ऐसी Electronic Machine है जो हमारे दियो हुए निर्देशों पर मुश्किल से मुश्किल कामो को भी चुटकियो में कर देता है जैसे अगर हमें कोई मुश्किल गुणा करना है तो computer उसको कुछ मिली सेकंड्स में ही कर देगा और वही एक इन्सान को मिनट्स भी लग जाते है.

लेकिन किताबी भाषा के अनुसार computer ka hindi परिभाषा कुछ ऐसे होती है – Computer एक Electronic Machine  है जो User से Input किये गए Data को Program के अनुसार Process करता है और इसके बाद Output के रूप में Results दिखाता है. जिसका भविष्य में भी उपयोग किया जा सकता है.

Computer की Full Form क्या है ?

वैसे तो Officially Computer का कोई फुल फॉर्म नही है परन्तु कुछ लोगो के अनुसार कंप्यूटर का फुल फॉर्म कुछ इस प्रकार है – 

C – Commonly, O – Operated, M – Machine, P – Particularly, U – Used For, T – Technical and, E – Educational, R – Research. 

Computer का इतिहास ( Generations Of Computer )

introduction of computer in hindi  – अभी आप जिस कंप्यूटर को देखते है, उसका इस्तेमाल  करते है , उसमे High Graphics वाले games खेलते है ,ये  कंप्यूटर शुरुआत से ही ऐसे नही है.आज के आधुनिक कंप्यूटर को बनाने में हजारो लोगो की मेहनत छुपी हुई है. कंप्यूटर का आविस्कर होने के बाद इसमें तेजी से बदलाव किये जाने लगे थे .वैसे तो कंप्यूटर में छोटे मोटे बदलाव होते रहते थे लेकिन जब कंप्यूटर के इतिहास में कोई बड़ा बदलाव किया जाता है तो उसे कंप्यूटर की पीढ़ी यानि Generations Of Computer कहा जाता है . अभी हम जिन Computers का इस्तेमाल करते है वो पाचवी पीढ़ी यानि Fifth Generation के Computer है. नीची हमने Computer की पांचो जनरेशन के बारे में बताया है .

Computer की पहली पीढ़ी ( First Generation ):1940-1956

First Generation के Computers में Vacuum Tubes को Memory के रूप में इस्तेमाल किया जाता था .इन computers की साइज़ काफी बड़ी होती थी जिस कारन इनको एक जगह से दूसरी जगह पर नही ले जाया जा सकता था .

इन Computers की बड़ी साइज़ होने कारण ये ज्यादा Heat पैदा करते थे जिससे कई बार इनमे Malfunctions हो जाते थे.इन कंप्यूटर में Machine Language का इस्तेमाल होता था 

Computer की दूसरी पीढ़ी  ( Second Generation ) : 1956-1963

Second Generation के कंप्यूटर में Vacuum Tubes की जगह पर  Transistors का उपयोग मेमोरी के रूप में किया जाने लगा .चुकी Transistor बहुत कम जगह लेते Vacuum Tubes की तुलना में ,इसलिए इनका साइज़ पहली जनरेशन की तुलना में कम होता था .इन computers में COBOL और FORTRAN जैसी  High Level Programing Languages का इस्तेमाल होता था .

Computer की तीसरी पीढ़ी ( Third Generation ) : 1963-1971

Computer के इतिहास में तीसरी जनरेशन काफी महत्वपूर्ण रही . इस जनरेशन के Computers में Integrated Circuits का इस्तेमाल किया जाने लगा था. चूँकि Integrated Circuits में छोटे – छोटे transistors को Silicon Chip के अंदर फिट करके Semi Conductor बनाया जाता था जिससे computers की Processing क्षमता काफी हद तक बढ़ गयी थी .

आपकी जानकारी के लिए बता दूँ कि आज आप जिन माउस और Keyboard का इस्तेमाल कर रहे है उनका इस्तेमाल तीसरी जनरेशन के Computers में किया जाने लगा था और यही वो पहले कंप्यूटर थे जिनको लोगो के लिये Market में उतारा गया था जिन्हें कोई भी खरीद सकता था .

Computer की चौथी पीढ़ी ( Fourth Generation ) : 1971-1985 

चौथी पीढ़ी के कंप्यूटर ने दुनिया बदल देने वाली पहल की थी क्युकी यही वो पहले कंप्यूटर थे जिनमे सबसे पहले Microprocessor का इस्तेमाल किया गया था . ये Microprocessor हजारों Integrated Circuit को एक ही सिलिकॉन chip में embedded करके बनाये जाते थे और इसिकारण इन computers की size काफी छोटी हो गयी थी .

इन computers की स्पीड काफी बढ़ जाने के कारण ये बड़े बड़े कैलकुलेशन को बहुत ही कम समय में कर पाते थे .जिससे लोगो का काम और भी आसन हो गया था .

Computer का अविष्कार किसने व कब किया – 

वैसे तो computer ka avishkar किसी एक बन्दे ने नही किया है क्योंकि बहुत सारे लोगो के योगदान के बाद आज का computer तैयार हुआ है लेकिन अगर बात करे कि computer को बनाने की पहल किसने की तो सन 1837 में Sir Charles Babbage ने पहला Analytical Engine बनाया था और इसीकारण आज हम  Sir Charles Babbage को father of computer  के नाम से भी जानते है .

क्योकि उनकी इसी खोज के बाद Computer का बनना प्रारभ हुआ था और आज हम Computer की ऐसी पीढ़ी को देख रहे है जो हमारे हर काम को चुटकियो में कर देती है.इसलिए आज की इस Digital दुनिया में Sir Charles Babbage का बहुत योगदान है.

Computer की विशेषताए क्या है

  1. आजकल कोई भी digital काम अगर आप करना चाहते है तो  computer में आप उसको आसन और तेजी से कर सकते है और वो काम किसी मोबाइल या Tablet से नही कर सकते जैसे – High Class Photo Editing , Video Editing और मनोरंजन के लिए heavy games आदि task.
  2. computer के द्वारा किया गया काम बिना किसी त्रुटी के होता है और इसकी काम करने की क्षमता व purity ( शुद्धता ) इन्सान की तुलना में ज्यादा होती है .और computer के द्वारा अगर कोई त्रुटी होती भी है तो उसका कारण इन्सान द्वारा हस्तक्षेप तथा प्रविष्ट निर्देशों के कारण होती है .
  3. अगर कोई इन्सान लगातार काम करता है तो वो एक निश्चित समय के पश्चात थक जाता है और आगे काम नही कर पाता है लेकिन एक computer बिना थके लगतार काम कर सकता है वो इन्सान की तुलना में ज्यादा मेहनती मशीन होती है .
  4. वैसे तो computer का काम होता है गणना करना लेकिन आज का computer गणना के आलावा भी बहुत सारे काम कर सकता है जैसे –  Typing, Video Player , Music Player, Gaming and Documents related work  आदि .
  5. computer एक बहुत ही अच्छा Communicator भी है जो अन्य बहुत सारे Electronic devices से बातचित  और उनको control भी कर सकता है.
  6. computer की स्टोरेज क्षमता काफी ज्यादा होती है जिसमे आप अपना कोई data store सकते हो.और सबसे अच्छी बात यह की आप इसके storage क्षमता को अपनी जरुरत के अनुसार बढ़ा भी सकते हो.
  7. computer पर आपका data लम्बे समय तक सुरक्षित रहता है ऐसे में यह आपके लिए सबसे भरोसे मंद भी हो सकता है जो आपका data आपकी मर्जी के बगेर किसी के साथ शेयर नही करेंगा.

Computer की Disadvantages

  1. Computer भले ही इंसानों से अधिक मेहनती और त्रुटिहीन हो लेकिन इन्सान के बिना यह कुछ भी नही है .जब तक इन्सान इसको सही commands नही देगा यह सही से काम नही कर पायेगा .
  2. computer एक मशीन है उसके अन्दर इंसानों जैसी सोचने की क्षमता नही है ऐसे में वह अपने आप कुछ नही कर सकता है हालाँकि अब AI ( Artificial Intelligence ) Technology के जरिये Computer में सोचने की क्षमता विकसित की जा रही है .

Conclusion

उम्मीद है आपको Computer के बारे में पता चला गया होगा यह तो सिर्फ पहली पोस्ट है हम आपको Computer की हर एक चीज के साथ रूबरू करायेंगे बस आप हमारे साथ बने रहे .धन्यवाद

 

Updated: October 22, 2020 — 9:36 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.