Chapter 1 NCERT class 6th history

Chapter 1 NCERT class 6th history

क्या , कब , कहाँ और कैसे ?

दोस्तों अध्याय 1 में हमारा पढ़ने का जो तरीका होगा वह सरल और संक्षिप्त रूप में होगा। जो मुख्य बिंदु होंगे , जो प्रत्येक प्रतियोगी परीक्षा में पूछे जाते हैं केवल उन्हीं बिंदुओं पर चर्चा करेंगे और इस अध्याय के प्रश्नों को हल करेंगे। जितना इस नोट्स में दिया गया है किसी भी प्रतियोगी परीक्षा में इससे अतिरिक्त प्रश्न नहीं आएंगे। ncert class 6th second chapter coming soon.

अतीत के बारे में हम क्या-क्या जान सकते हैं? उत्तर- हम आखेटको (शिकारियों) , पशुपालकों , कृषको , शासको , व्यापारियों , पुरोहितों , शिल्पकारो , कलाकारों , संगीतकारो या फिर वैज्ञानिकों के जीवन के बारे में जानकारी हासिल कर सकते हैं।

नगरों का विकास कहां कब और कैसे हुआ? उत्तर- गंगा व इसकी सहायक नदियों के किनारे तथा समुंद्र तटवर्ती इलाकों में नगरों का विकास लगभग 2500 वर्ष पूर्व हुआ। गंगा के दक्षिण में इन नदियों के आसपास का क्षेत्र प्राचीन काल में “मगध” ( वर्तमान बिहार में ) के नाम से जाना जाता था।

अपने देश का नाम- अपने देश के लिए हम प्रायः इंडिया तथा भारत जैसे नामों का प्रयोग करते हैं । इंडिया शब्द इंडस से निकला है जिसे संस्कृत में सिंधु कहा जाता है । लगभग 25 वर्ष पूर्व उत्तर पश्चिम की ओर से आने वाले इरानी और यूनानीयों ने सिंधु को हिंदोस अथवा इंडोस और इस नदी के पूर्व में स्थित भूमि प्रदेश को इंडिया कहा। भारत नाम का प्रयोग उत्तर पश्चिम में रहने वाले लोगों के एक समूह के लिए किया जाता था।

पांडुलिपि किसे कहते हैं? उत्तर- अतीत में लिखी गई जिस पुस्तक से हम अतीत के बारे में जानकारियां प्राप्त करते हैं, उसे हम पांडुलिपि कहते हैं क्योंकि यह पुस्तक हाथों से लिखी हुई होती है। अंग्रेजी में पांडुलिपि के लिए प्रयुक्त होने वाला “मेनूस्क्रिप्ट” शब्द लैटिन शब्द मेनू जिसका अर्थ हाथ है , से निकला है।

अभिलेख अथवा शिलालेख किसे कहते हैं? उत्तर- ऐसे लेख जो पत्थर अथवा धातु जैसी अपेक्षाकृत कठोर सतहों पर उत्कीर्ण यह गए हैं , उन्हें अभिलेख या शिलालेख कहते हैं।

पुरातात्विद किसे कहते हैं? उत्तर- वे वस्तुएं जो अतीत में बनी और प्रयोग में लाई जाती थी उनका अध्ययन करने वाला व्यक्ति पुरातात्विद कहलाता है। पुरातात्विद पत्थर और ईट से बनी इमारतों के अवशेषों , चित्रों तथा मूर्तियों का अध्ययन करते हैं।

पांडुलिपि अभिलेख
◆ पांडुलिपि प्रायः तारपत्रों अथवा हिमालय क्षेत्र में उगने वाले बुर्ज नामक पैर की छाल से विशेष तरीके से तैयार भोजपत्र पर लिखी मिलती है।

◆ इसे कीड़ा खा कर नष्ट कर सकते हैं।

◆ यह मंदिरों और विहारो में प्राप्त होती है।

◆ इसमें धार्मिक मान्यताओं व व्यवहारों , राजाओं के जीवन , औषधीय तथा विज्ञान आदि सभी प्रकार के विषय की चर्चा मिलती है

◆ अभिलेख पत्थर अथवा कठोर सतह पर उत्कीर्ण मिलती है।

◆ यह जल्दी नष्ट नहीं होता है।

◆ यह सड़को तथा भीड़भाड़ वाले जगह से प्राप्त होती है।

◆ इसमें शासक अपने आदेशों को उत्कीर्ण करवाते थे ताकि लोग उन्हें देख सके पढ़ सके तथा उनका पालन कर सकें। अर्थात इसमें शासक के आदेशों की जानकारी मिलती है।

इस अध्याय में पूछे गए मिलान करने वाले प्रश्नों का उत्तर नीचे दिया गया है जो कि सही सुमेलित है-

नर्मदा घाटी आखेट तथा संग्रहण
मगध पहला बड़ा राज्य
गारो पहाड़ियां आरंभिक कृषि
सिंधु तथा इसकी सहायक नदियां प्रथम नगर
गंगा घाटी लगभग 2500 वर्ष पूर्व के नगर

दोस्तों यह ncert class 6th hisrory chapter 1 का संक्षिप्त और सरल रूप रहा मैं इतना दवा के साथ कह सकता हूं कि अगर अध्याय 1 से प्रश्न आया तो इतना से ज्यादा में से नहीं आएगा ।

इसे भी पढ़े-

modern history test series

cisf asi previous year gk paper

Join our telegram group for letest updates.

Updated: June 25, 2020 — 3:07 pm

1 Comment

Add a Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.