GDP किसे कहते है ? GDP Ka Full Form ? भारत की GDP क्या है ?

GDP Ka Full Form : आपने आज से पहले कभी तो जरूर  सुना होगा कि GDP क्या है (What is GDP in Hindi). आप जब कोई लोगो के सम्पर्क में आते हो यानि उनसे बात करते हो तो आपने इसका नाम तो जरूर सुना होगा  और अगर आपको इसके बारे में कुछ भी नही पता है तो फिकर मत कीजिये आज के इस Post में हम इसके बारे में बात करेंगे और जानेंगे की GDP Kya hai और इसका Full Form क्या है और यह क्यों महत्वपूर्ण है. इसके अलावा हम यह भी जानेंगे कि भारत की जीडीपी कितनी है ( Bharat ki GDP kitni hai ) 2020 में.

आज के इस समय में पूरी दुनिया और  हर देश प्रत्येक क्षेत्र में  तरक्की करना चाहता है और इसी वजह से सभी देशो में तरह तरह के उधोग खोले जाते है ताकि उस देश के नागरिको के जरूरत का ज्यादा से ज्यदा सामान उस देश में ही बने ताकि उस देश का पैसा कही न जाये और उस देश के विकाश में मदद हो .लेकिन कुछ सामान ऐसा होता है उसका अपने देश में उत्पादन ना होकर बल्कि विदेशों से उसे आयात किया जाता है और जिन चीजों का उत्पादन खुद के देश में होता है उनको दूसरे देशों को बेचा जाता है. इसीलिए उनका निर्यात किया जाता है तो इससे जो दूसरे देश की इकोनामी होती है वह अपने देश में आती है.

GDP-ka-full-form

जिन लोगों को इसके बारे में मालूम होता है वह अक्सर पता करते रहते हैं कि अभी इंडिया की जीडीपी कितनी है. क्योकि GDP हमें बताती की कोई देश इस दुनिया में कैसे आगे बढ़ रहा है , उसका कितना विकास हो रहा है . फ़िलहाल तो कुछ यूँ सम्झ्ज लीजिये की अगर किसी देश की जीडीपी निचे है तो इसका मतलब उसका विकास नही हो प् रहा है वही अगर किसी देश की जीडीपी में बढ़ोतरी हो रही है तो इसका मतलब है की वो देश विकसित हो रहा है . तो  मुझे लगता है कि हर भारतीय को इस की जानकारी जरूर होनी चाहिए और यही वजह है कि आज का पोस्ट मैंने इसी को ध्यान में रखते हुए लिखा है और बताया है कि जीडीपी क्या होता है (What is GDP in Hindi) और भारत की Gross Domestic Product कितनी है.

GDP Kya Hai  – What is GDP in Hindi

जो सामान या वस्तुए अपने देश में उत्पादित की जाती है उनके मूल्य को ही  जीडीपी ( GDP) कहते हैं. यानि की भारत में जितनी वस्तुए ,सामान सकल घरेलु उत्पाद में शामिल है.

इसमें डबल काउंटिंग से बचने के लिए Gross Domestic Product में उत्पादन का अंतिम मूल्य शामिल किया जाता है लेकिन इसमें जो भी से नहीं होते हैं उदाहरण के लिए मान लीजिए श्री लेदर एक जूता बनाती है तो इसमें जो अंतिम उत्पाद यानी जूता बिकने के लिए तैयार होता है सिर्फ उसी का मूल्य इसमें जोड़ा जाता है. अब यहां पर आप समझ सकते हैं कि जूते में लेस भी होता है उसका शोल भी होता है जो अलग से उस में डाला जाता है तो अलग-अलग भाग होते के मूल्यों को नहीं लिया जाता बल्कि जो एक अंतिम पूरा उत्पाद होता है प्रोडक्ट होता है सिर्फ उसी का मूल्य लिया जाता है.

GDP Ka Full Form  Kya hai – Full Form of GDP

GDP का Full Form Gross Domestic Product  ( सकल घरेलू उत्पाद ) होता है .

अब यहां जानने वाली मुख्य बात यह है कि Gross Domestic Product के अंतर्गत कौन-कौन से उत्पाद और सेवाओं की मूल्यों की गणना की जाती है. मैं आपको बता दूँ कि जीडीपी में सभी निजी और सार्वजनिक खपत, सरकारी खर्चे, निवेश प्राइवेट इन्वेंटरी, कंस्ट्रक्शन में होने वाले खर्चे विदेशी व्यापार का संतुलन यानी कि जो निर्यात की जाती है चीजें, उनको जोड़ा जाता है और जो आयात किए जाते हैं उनको घटाया जाता है.

बजट 2021-22 PDF

GNP क्या है – Gross National Product

GNP एक अर्थव्यवस्था के नागरिकों के पूरे उत्पादन को मापता है जिसमें विदेश में रहने वाले लोग शामिल हैं. जबकि विदेशियों द्वारा घरेलू उत्पादन को इसमें शामिल नहीं किया गया है. वैसे तो GDP की गणना हर साल की जाती है लेकिन GNP की गणना हर 3 महीने में की जाती है

2020 में भारत की GDP कितनी है ?

इस वक्त हमारे भारत की GDP 5% है जो की पिछले साल से कम है क्योकि इस साल महामारी के कारण बहुत सरे काम काफी महीनो तक स्थगित थे और उत्पादन भी काम हो गया था लेकिन अब धीरे धीरे वापस पहले जैसा हो रहा है उम्मीद करते है अगले साल तक सब कुछ नार्मल हो जाये .

GDP का फार्मूला – GDP की गणना करने का Formula क्या है?

GDP के Component में व्यक्तिगत उपभोग वाले खर्चे और व्यवसायिक Investment के साथ-साथ Government investment (सरकारी निवेश) को जोड़ा जाता है और इसके साथ ही बहार के देशो से निर्यात किए गए चीजों को भारत से दुसरे देशो में आयात किए गए चीजों में घटाया जाता है और फिर इसे भी अन्य के साथ जोड़ दिया जाता है. निचे हम आपको एक सूत्र दिखा रहे है जिससे किसी भी देश की GDP (Gross Domestic Product) को ज्ञात करना यानि उसकी गणना करना बहुत ही आसन होता है .

GDP = C + I + G + (X – M)

GDP = PRIVATE CONSUMPTION + GROSS INVESTMENT + GOVERNMENT INVESTMENT + GOVERNMENT SPENDING + (EXPORTS – IMPORTS).

C – Private consumption

I – Gross investment

G – Government investment

X – Exports

M – Imports

 Types of GDP in Hindi – GDP के प्रकार

Nominal GDP

Nominal  उन सभी Products ओर Service का मूल्य होता है जो 1 साल के अंदर में पारित अर्थव्यवस्था है. तो जिस साल में इसकी गणना की जाती है उसी साल के कीमतों का उपयोग करके इसकी गणना होती है. अर्थव्यवस्था में Nominal value को मात्रिक शब्द के रूप में व्यक्त किया जाता है. उदाहरण के लिए Nominal value को Quantity और दाम के आधार पर बदला जा सकता है.

Nominal Gross Domestic Product 1 साल के अंदर में जितने भी वस्तुएं उत्पादित की जाती है उन में जितने भी परिवर्तन होते हैं, सभी को यह ध्यान में रखता है. यदि कीमत एक आदमी से अगले आदमी में बदल जाती हैं और Final Output में बदलाव नहीं होता है तब भी उत्पादन स्थिर रहने के बावजूद Nominal GDP बदल जाएगा.

जैसे कि हम समझ चुके हैं कि Nominal GDP वर्तमान बाजार मूल्य पर आधारित होता है इसलिए Nominal  बाजार की कीमतों में सभी परिवर्तन शामिल होंगे. जो मुद्रा स्थिति या अब स्थिति के कारण चालू वर्ष के दौरान हुए हैं. Inflation को overall दामों में वृद्धि के रूप में परिभाषित किया गया. deflation स्थिति को overall दामों में गिरावट के रूप में परिभाषित किया गया है.

Real GDP

Real GDP ,  Inflation adjusted उपाय है जो किसी वर्ष में अर्थव्यवस्था द्वारा उत्पादित सभी वस्तुओं और सेवाओं के मूल्य को दर्शाता है. जो आधार वर्ष की कीमतों में व्यक्त किया जाता है और अक्सर इससे कांस्टेंट प्राइस भी बुलाया जाता है.  इसके अलावा इससे “Inflation corrected”  और “Constant dollar GDP” बोला जाता है. Real GDP  में परिवर्तन के लिए जिम्मेदार हो सकता है और आर्थिक विकास का अधिक सटीक आंकड़ा प्रदान कर सकता है.

GDP Growth के फायदे

Higher average incomes

यह Consumers का अधिक वस्तुओं और सेवाओं का आनंद लेने और जीवन जीने के 72 Standard का आनंद लेने में सक्षम बनाता है बीसवीं शताब्दी के दौरान आर्थिक विकास गरीबी के पूर्ण स्तर को कम करने और जीवन प्रत्याशी में विधि को सक्षम करने का एक Prime factors  था.

Lower unemployment

अधिक उत्पादन और Positive economic development  के साथ, कंपनियां अधिक रोजगार पैदा करती हैं जिससे कि अधिक मजदूरों को रोजगार रोजगार दिया जा सके.

Lower government borrowing

आर्थिक विकास अधिक टैक्स का Revenue बनाता है बेरोजगारी की समस्या पर पैसे खर्च करने की आवश्यकता होती है. इसीलिए आर्थिक विकास सरकारी उधार को कम करने में मदद करता है. आर्थिक विकास भी कर्ज को Gross Domestic Product अनुपात में कम करने में भूमिका निभाता है.

Improved public services

बढे हुए टैक्स के साथ सरकार Public service जैसे National highway और Education पर अधिक खर्च कर सकती है.

Money can be spent on protecting the environment

Real growth domestic report के साथ एक समाज ReCycling  को बढ़ावा देने और Renewable Resources के उपयोग के लिए अधिक संसाधनों को प्रमोट कर सकता है.

Investment

आर्थिक विकास कंपनियों का भविष्य की मांग को पूरा करने के लिए Investment करने के लिए प्रोत्साहित करता है High investment भविष्य के आर्थिक वृद्धि के लिए गुंजाइश बढ़ाता है आर्थिक विकास निवेश का एक Virtual Cycle बनाता है.

Increased research and development

हाय Economic growth कंपनियों के लिए लाभ में वृद्धि होती है जिससे Research और विकास पर अधिक खर्च होता है इसके अलावा लगातार आर्थिक विकास से आत्मविश्वास बढ़ता है और कंपनियों को जोखिम उठाने और नया करने के लिए Encouraged किया जाता है.

GDP का Importance ( महत्व )

  • Gross Domestic Product एक अर्थव्यवस्था के लिए सबसे अच्छा उपाय है,  Research और मिलने वाले Data में सुधार के साथ Statistics और सरकार जिस Gross Domestic Product के मजबूत करने के लिए कोशिश करती है उसे मजबूत करने के उपाय को पता लगाने के लिए कोशिश करती है.
  • इस में Consumer का खर्च Investment expenses , Government expenditure और Net export  शामिल है इसीलिए यह एक अर्थव्यवस्था के सभी खर्चों को बताता है क्योंकि Investors को एक Vision देता है जो कि Gross domestic product  के स्तर की एक Insight के रूप में तुलना करके अर्थव्यवस्था की Trend को उजागर करता है.
  • इस के मामले में हर एक Component को उसी के Relative price में महत्व दिया जाता है. बाजार अर्थशास्त्र में या कीमतों पर क्लिक करता क्योंकि उत्पादक के लिए Marginal cost  और उपभोक्ता के लिए दोनों को दर्शाया गया है यानी लोग ऐसे कीमत पर ऐसी कीमत पर बेचते हैं जो दूसरों को भुगतान करने के लिए तैयार है.
  • इससे Investors को अर्थव्यवस्था की स्थिति के बारे में मार्गदर्शन प्रदान करके उनके Portfolio को प्रबंधित करने में मदद करता है.
  • Gross domestic product की गणना  अर्थव्यवस्था के सामान्य स्वास्थ्य के साथ प्रदान करती है. एक नकारात्मक Gross domestic product विकास अर्थव्यवस्था के लिए बुरे संकेतों को दिखाता है अर्थशास्त्री GDP  का Analyze करते हैं ताकि यह पता लगाया जा सके कि अर्थव्यवस्था मंदी में है या फिर उछाल में है.

2020 में भारत की GDP कितनी है ?

इस वक्त हमारे भारत की GDP 5% है जो की पिछले साल से कम है क्योकि इस साल महामारी के कारण बहुत सरे काम काफी महीनो तक स्थगित थे और उत्पादन भी काम हो गया था लेकिन अब धीरे धीरे वापस पहले जैसा हो रहा है उम्मीद करते है अगले साल तक सब कुछ नार्मल हो जाये .

Conclusion

आज के पोस्ट में हमने जाना की GDP क्या है ( What is GDP in Hindi ). आज हमने यह भी जाना की GDP Ka Full Form Kya hai और यह इतना क्यों महत्वपूर्ण है. इसके अलावा हमने यह भी बात की कि 2020 में  भारत की जीडीपी कितनी है. दोस्तो आज के जमाने में हर देश तरक्की चाहता है और तरक्की करने के लिए अधिक से अधिक रोजगार पैदा करने की कोशिश करता है. जब भी किसी देश की प्रगति का पता करना होता है तो उसकी GDP पर नजर डाली जाती है और देखा जाता है कि इस में कितना सुधार हुआ है या फिर कितना नीचे गिरा है. इसी से अंदाजा लग जाता है कि कौन सा देश विकास कर रहा है और कौन सा देश नहीं कर रहा है.

मुझे लगता है कि अब आप अच्छे से समझ गए होंगे कि GDP क्या होता है और इसका Formula क्या है अगर आपके पास Data हो तो खुद भी आप इसका Calculus आराम से कर सकते हैं तो दोस्तों आपको यह पोस्ट कैसी लगी हम उम्मीद करते हैं कि आपको यह पोस्ट जरूर पसंद आई होगी ThankYou.

Updated: February 10, 2021 — 1:07 am

2 Comments

Add a Comment
  1. very nice and helpful post. Class 9 Assignment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.